मंगलवार, फ़रवरी 14, 2012

कुछ ही देर में ये मुलाक़ात खत्म हो जायेगी...

तुम्हारी याद अपने होने में निरंतर है...उसे मुझसे कोई अपेक्षा नहीं है कि मैं उसके आने या ना आने पर कुछ ध्यान दूँ ...बस वो आती ही है...हमेशा...

कुछ भी बदला ना, तो मैं रो-रो कर मर जाऊंगा...ऐसा लड़के ने कहा था.

लड़की को कभी अपने किसी फैसले पर कोई शक नहीं था, तभी तो वो शुरुआती दिनों में भी उतनी ही ईमानदारी से हँस कर कहा करती थी कि मेरा यकीन करो अब कुछ भी नहीं बदलेगा...कम-से-कम मेरी तरफ से तो नहीं... 

वो बस मुस्कुरा दी ये सोचकर कि देखना एक दिन यही लड़का बदल जायेगा... वो उसे इतना टूटकर चाहेगी  कि लड़का सब कुछ भूल जायेगा...पर सच्चाई तो कुछ और ही है ना...इसलिए एक दिन सब बदलने लगेगा और उसका दिल टूट जायेगा...ये परीकथा तो है नहीं...

पहली  मुलाक़ात में उसका हाथ एक टेबल पर था जिसे लड़के ने थाम लिया था. लड़की ने भी जब उसे अपनी पलकों से छू लिया तो उसकी उंगलियाँ लरज़ उठी थीं. वो दोनों चुपचाप बस कॉफी के प्याले से उठते धुंए को देखते रहे...वो लड़की को प्यार से चूम लेना चाहता था...ये सोचकर लड़की की आँखों में आँसू आ गये कि कुछ ही देर में ये मुलाक़ात खत्म हो जायेगी. लड़का चला जायेगा लेकिन बाकी सब कुछ पीछे छूट जायेगा. क्या सचमुच लड़का जा पायेगा ? अगर उसे जाना ही होता तो वो उस लड़की को ढूँढते हुए आता ही क्यों ? 

कुछ ही देर में ये मुलाक़ात खतम होने को थी...लड़के ने एक बारे फिर प्यार से लड़की का हाथ थाम लिया...इस स्पर्श में एक गहरी आश्वस्ति थी...लड़की उसे जाते हुए देखती रही और कुछ डूबता हुआ सा महसूस करने लगी...अपना ही शहर उसके चले जाने से बेगाना हो गया...

वो उसे टूटकर चाहने लगी और लड़का भी उस पर जी जान से मरता था...पर दोनों में सिर्फ़ एक ही अंतर था कि  वो उसे बस चाहती ही रही और लड़के का जब मन करता उसे चाहना बंद भी कर देता और फिर यूं ही उसे बेइंतहा चाहने लगता...उसे कई-कई वास्ते देता...उसकी बहुत तारीफ़ करता फिर जब मन करता उसे दिल से निकल देता...

जिस  तरह ज़िंदगी में कुछ भी स्कोर नहीं किया जा सकता वैसे ही प्यार में भी कुछ स्कोर नहीं किया जा सकता....कितनी मिन्नतें...कितने वादे...कितनी ही मुलाकातें...और फिर एक दिन क़यामत का...जब कुछ भी शेष नहीं रह जाता...सिवाय एक सवाल के कि ये सब हुआ क्यों था ?




3 टिप्‍पणियां:

  1. जयश्री जी...! आप का लिखा निःशब्द कर जाता है.....!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कंचन जी, आप जैसे मित्रों के साथ का ही असर है ये...जो कभी-कभी कुछ लिख लेते हैं...Thanks a lot

      हटाएं