गुरुवार, जून 30, 2011

वादा

"सुनो, मैंने कुछ तय किया है."........"अब मैं बाकी सब चेहरे भूल जाना चाहता हूँ."......इस बात का ठीक-ठीक मतलब समझना मुश्किल था उस वक्त. पर अब कुछ-कुछ समझ में आ रहा है. कोशिश ही कहाँ की थी कुछ भी समझने या जानने की और सच तो ये है कि इस बात का कोई अफ़सोस भी नहीं होता. एक अरसे बाद मिले थे फिर ऐसी फ़िज़ूल बातों के लिए वक्त ही कहाँ था.

मौसम को अपने रंग में ढालना हो या फिर कोई शायरी कहनी हो, कोई बात उसके बगैर पूरी नहीं होती थी. हर तरफ एक ही ख्याल....हाँ, अब उसे खुद अपनी ही खबर नहीं थी. "मैं तुम्हें एक बार छू कर देखूँ तो यकीं हो कि तुम हो..." ऐसा एक बार बेखयाली में कहा था उसने.... उस दिन से लगने लगा कि शायद ये एक ख़्वाब है.....इसके बाद वे दोनों आगे बढ़े, फिर रुके. 

"तुम मेरे साथ चलोगी ?" ऐसा ही कुछ उसने कहा था एक दिन. आस-पास के शोर से एकदम अलग लगी थी उसकी आवाज़. एक ठहराव, फिर भी एक शोखी थी उसकी आवाज़ में, जो उसे बहुत पसंद थी. क्या सब कुछ वैसा ही होता है जैसा दिखाई देता है?

धीरे-धीरे उसकी बातों के मायने समझ में आने लगे. उसे प्यार तो बहुत था पर बहुतों से था. एक बात और कही थी उसने कि क्या बहुतों को प्यार करने से तुम्हारे हिस्से का प्यार कम हो जाता है? नहीं...शायद नहीं.....प्यार कैसे कम हो सकता है.....बस कुछ दरक सा गया उस दिन के बाद.

7 टिप्‍पणियां:

  1. यूँ भी कभी प्यार कम हुआ .. कभी नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यार कैसे कम हो सकता है? :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुक्रिया मनोज जी, नीरा जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. नीरा दी, आपकी पोस्ट याद आ गई, 'कट कॉपी पेस्ट...यू आर फायर्ड जानेमन!' जयश्री जी यह दरकना असल में संभलना है...बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुक्रिया प्रतिभा जी, आपने कितना सही कहा है कि यह दरकना असल में संभालना है.
    शुक्रिया कंचन जी, आपने पूरी पोस्ट को एक ही शब्द में बयां कर दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रतिभा जी, एक बात और...नीरा जी की पोस्ट 'कट कॉपी पेस्ट...यू आर फायर्ड जानेमन!' भी पढ़ी. पोस्ट तो खूबसूरत थी ही, पर आपकी निगाहें बड़ी पैनी हैं. शुक्रिया एक बार और...

    उत्तर देंहटाएं